ब्रेकिंग न्यूज़

 किसान नेता ने कहा 500 से ज्यादा संगठन, लेकिन न्योता केवल 32 को, हम बातचीत के लिए नहीं जाएंगे
नई दिल्ली : केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ हरियाणा और पंजाब के किसान संगठनों का विरोध प्रदर्शन पिछले 6 दिनों से लगातार जारी है। हजारों की संख्या में किसान दिल्ली के सिंघू बॉर्डर पर डटे हुए हैं। किसानों का कहना है कि वो तब तक वापस नहीं जाएंगे, जब तक सरकार उनकी मांगें नहीं मानती।

इस बीच सोमवार को केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसान संगठनों को बातचीत के लिए आमंत्रित किया। नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों को मंगलवार दोपहर 3 बजे बातचीत के लिए बुलाया है। हालांकि पंजाब किसान संघर्ष समिति ने कहा है कि जब तक सरकार सभी किसान संगठनों को नहीं बुलाती, वो बातचीत के लिए नहीं जाएंगे।

पंजाब किसान संघर्ष समिति के संयुक्त सचिव सुखविंदर सिंह सबरान ने मंगलवार को मीडिया से बात करते हुए कहा, 'देशभर में इस समय किसानों के 500 से ज्यादा संगठन विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन सरकार ने केवल 32 संगठनों को ही बातचीत के लिए आमंत्रित किया है। बाकी संगठनों को सरकार ने बातचीत के लिए नहीं बुलाया है। हम तब तक सरकार के पास बातचीत के लिए नहीं जाएंगे, जब तक सभी संगठनों को नहीं बुलाया जाता।'

किसानों के प्रदर्शन पर कृषि मंत्री ने क्या कहा आपको बता दें कि सोमवार को केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार किसानों से बातचीत के लिए पहले भी तैयार थी और आज भी तैयार है। नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा, 'किसानों से बातचीत के लिए उन्होंने मंगलवार को दोपहर 3 बजे दिल्ली के विज्ञान भवन में किसान संगठनों को आमंत्रित किया है।

सरकार ने पहले ही 13 नवंबर को यह निश्चित किया था कि 3 दिसंबर को किसान संगठनों से अगले दौर की बातचीत की जाएगी, लेकिन कोरोना वायरस के हालात और बढ़ती ठंड के बीच किसानों के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए हम दो दिन पहले ही उन्हें बातचीत के लिए बुला रहे हैं। कृषि कानूनों के बारे में किसानों के बीच भ्रम फैलाया जा रहा है और सरकार बातचीत के जरिए उनकी समस्याओं का समाधान करेगी।'
 

Related Post

Leave A Comment

छत्तीसगढ़