ब्रेकिंग न्यूज़

 काबुल एयरपोर्ट पर हमला, अफगान सुरक्षा अधिकारी की मौत
काबुल : अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में स्थिति एयरपोर्ट की स्थिति काफी ज्यादा खराब बनी हुई है। एक तरफ जहां विश्व का सबसे बड़ा रेस्क्यू ऑपरेशन चल रहा है, वहीं दूसरी तरफ काबुल एयरपोर्ट पर हमले की खबर मिल रही है।

 जर्मनी की सेना ने ट्वीट किया है कि सोमवार को काबुल हवाई अड्डे पर अज्ञात हमलावरों के साथ मुठभेड़ में अफगान सुरक्षा बल का एक सदस्य मारा गया है और तीन अन्य घायल हो गए हैं।

एयरपोर्ट पर आतंकी हमाल ?

जर्मन सेना की तरफ से कहा गया है कि अमेरिकन और जर्मन सेना भी इस लड़ाई में शामिल हुई है और हमलावर कौन हैं, इसकी कोई जानकारी अभी तक नहीं मिल पाई है। वहीं ब्रिटिश मिलिट्री की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि एयरपोर्ट पर गोलीबारी के बाद भगदड़ मचने से सात लोगों की मौत हो चुकी है।

 आपको बता दें कि काबुल पर कब्जा करने के बाद तालिबान के लड़ाके काबुल एयरपोर्ट के बाहरी हिस्से में फैले हुए हैं और एयरपोर्ट की निगरानी कर रहे हैं। 

अफगान सरकार के पतन के एक हफ्ते बाद भी हजारों लोग अराजक तरीके से पलायन कर रहे हैं। लोग देश छोड़कर भागने की कोशिश कर रहे हैं। आपको बता दें कि अमेरिका ने 31 अगस्त से सभी नागरिकों और सहयोगियों को अफगानिस्तान ले बाहर निकालने की आखिरी तारीख दे रखी है।

31 अगस्त आखिरी तारीफ अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा है कि अमेरिका ने 31 अगस्त तक सभी यूएस सैनिकों को अफगानिस्तान से बाहर निकालने की आखिरी तारीख तय कर रखा है, लेकिन अब जो काबुल एयरपोर्ट पर हालात बने हैं, उसके हिसाब से कुछ और दिन हमें लग सकते हैं।

 वहीं, दूसरी तरफ काबुल एयरपोर्ट पर आईएसआईएस के हमले की भी खुफिया रिपोर्ट है। व्हाइट हाउस ने कहा है कि राष्ट्रपति जो बाइडेन और उनकी राष्ट्रीय सुरक्षा टीम अफगानिस्तान की सुरक्षा स्थिति और आतंकी संगठन आईएसआईएस से संभावित खतरों को लेकर चर्चा की है। 

अमेरिकी खुफिया अधिकारियों ने पहले सीएनएन को बताया था कि आईएसआईएस-के में "सीरिया के अनुभवी जिहादियों और अन्य विदेशी आतंकवादी लड़ाकों की एक छोटी संख्या" शामिल है।'' अमेरिकी अधिकारियों ने करीब 10-15 मोस्ट वांटेड आतंकियों की पहचान की थी। 

17 हजार लोग निकाले गये वहीं, अमेरिका की तरफ से कहा गया है कि जुलाई और अगस्त महीना मिलाकर अभी तक करीब 22 हजार से ज्यादा लोगों को सुरक्षित निकाला गया है, जिनमें 17 हजार लोगों को 4 अगस्त के बाद निकाला गया है, जिनमें 2500 लोग अमेरिका के रहने वाले हैं।

 इसके साथ ही अमेरिका उन लोगों को भी अफगानिस्तान से निकाल रहा है, जिन्होंने अमेरिकी सैनिकों की मदद की थी। बाइडेन प्रशासन के अनुसार 15 हजार अमेरिकी और 50 हजार से 60 हजार ऐसे अफगान सहयोगी हैं, जिन्हें निकालने की आवश्यकता है।
 

Related Post

Leave A Comment

छत्तीसगढ़