ब्रेकिंग न्यूज़

बलरामपुर : संसदीय सचिव श्री चिंतामणी एवं जिले के प्रभारी सचिव श्री पिंगुआ ने ली समीक्षा बैठक
शासन की प्राथमिकता प्राप्त योजनाओं पर हुई चर्चा

स्थानीय जलवायु के अनुकूल उद्यानिकी फसलों को दें प्राथमिकता: श्री पिंगुआ

बलरामपुर : संसदीय सचिव एवं सामरी विधायक श्री चिंतामणि महाराज और छत्तीसगढ़ शासन के प्रमुख सचिव वाणिज्य एवं उद्योग तथा वन श्री मनोज कुमार पिंगुआ ने विभाग प्रमुखों के साथ समीक्षा बैठक की।
 
बैठक में शासन की प्राथमिकता प्राप्त योजनाओं जैसे मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान, गोधन न्याय योजना, वन अधिकार, वन संसाधन तथा उद्योग एवं उद्यमिता विकास से जुड़े महत्वपूर्ण बिन्दुओं पर चर्चा की गई।
 
कलेक्टर श्री श्याम धावड़े ने प्रमुख योजनाओं के संचालन तथा प्रगति की संक्षिप्त जानकारी दी। संसदीय सचिव तथा सामरी विधायक श्री चिंतामणि महाराज ने बैठक में क्षेत्रीय समस्याओं से प्रभारी सचिव को अवगत कराते हुए यथासंभव शीघ्र निराकरण करने की बात कही।

जनपद पंचायत कुसमी के सभाकक्ष में आयोजित बैठक में संसदीय सचिव श्री चिंतामणि महाराज ने पंजाब नेशनल बैंक के खाताधारकों को बैंकिंग सेवाएं सुचारू रूप से न मिलने की बात को प्रमुखता से रखा। उन्होंने कहा कि सामरी क्षेत्र में पीएनबी की नई शाखाएं खोली जाएं अथवा खातों को अन्य बैंकों में स्थान्तरित कर दिया जाए। चाय बागान, उतेरा पद्दति से खेती तथा पाट क्षेत्रों में फलदार पौधे लगाने तथा उद्यानिकी के क्षेत्र में संभावनाओं पर चर्चा करते हुए इस दिशा और अधिक प्रयास करने की बात कही।

प्रभारी सचिव श्री मनोज कुमार पिंगुआ ने गिरदावरी सत्यापन तथा चबूतरा निर्माण का कार्य सफलतापूर्वक पूर्ण करने पर जिला प्रशासन की पूरी टीम को बधाई देते हुए कहा कि इससे धान खरीदी का कार्य सही से होगा साथ ही शासन के पैसों की बचत भी होगी। उन्होंने व्यक्तिगत वनाधिकार, सामुदायिक वनाधिकार तथा वन संसाधन की जानकारी देते हुए वन प्रबंधन के नई रूपरेखा की जानकारी दी। वन अधिकार पत्र प्राप्त करने वाले हितग्राहियों को दायित्वों की जानकारी दी। उन्होंने वन संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक करने तथा वनों के प्रबंधन के लिए नए मास्टरप्लान के तैयार होने की जानकारी दी।

प्रभारी सचिव ने धान से इतर उद्यानिकी फसलों तिखुर, हल्दी, जिमीकंद, अदरक की खेती को बढ़ावा देने हेतु प्रयास करने का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि स्थानीय जलवायु के अनुकूल उद्यानिकी फसलों को प्राथमिकता दी जाए, ताकि लोगों की आय बढ़े तथा जीवन स्तर में सुधार आये। उन्होंने उद्योग विभाग की योजनाओं के बारे में चर्चा करते हुए सूक्ष्म और मध्यम उद्योग को बढ़ावा देने की बात कही। समग्र दृष्टिकोण रखते हुए सभी विभागों को समन्वय के साथ काम करते हुए उद्यमिता विकास के लिए प्रयास करना है।

उन्होंने मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के अंतर्गत पूरक पोषण आहार के वितरण की जानकारी ली तथा इसके प्रगति की समीक्षा भी की। बैठक के अंत में सुराजी गांव योजना, गोधन न्याय योजना के संबंध में विभागीय अधिकारियों के साथ चर्चा करते हुए जरूरी निर्देश दिए।

बैठक में मुख्य वन संरक्षक सरगुजा वन वृत्त श्री ए.बी.मिंज, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री हरीश एस0 सहित जिला स्तरीय अधिकारीगण उपस्थित थे।

Related Post

Leave A Comment

छत्तीसगढ़

Advertisement