ब्रेकिंग न्यूज़

दुर्ग : कृषि विज्ञान केन्द्र, अंजोरा में पोषण वाटिका महाअभियान एवं वृक्षारोपण का आयोजन

 द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा 

No description available.

 
दुर्ग : भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद्, नई दिल्ली द्वारा प्रायोजित अंतर्राष्ट्रीय पोषक अनाज वर्ष 2023 के परिपेक्ष्य में ’’पोषण वाटिका महाअभियान एवं वृक्षारोपण’’ का आयोजन कृषि विज्ञान केन्द्र, अंजोरा दुर्ग में 17 सितम्बर 2021 को किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य आतिथि डॉ. एन.पी. दक्षिणकर,  कुलपति, दाऊ श्री वासुदेव चंद्राकर कामधेनु विश्वविद्यालय, दुर्ग थे। कार्यक्रम के अध्यक्ष डॉ. सुधीर उपरीत, निदेशक विस्तार शिक्षा एवं विशिष्ट अतिथि श्रीमती खिलेश्वरी निषाद, सरपंच ग्राम पंचायत, महमरा थे। कार्यक्रम के प्रारंभ में ’’अन्तर्राष्ट्रीय पोषक अनाज वर्ष 2023’’ का  श्री नरेन्द्र सिंह तोमर केन्द्रीय कृषि मंत्री द्वारा शुभारंभ कार्यक्रम का जीवंत प्रसारण किया गया।
No description available.

इस अवसर पर कुलपति डॉ. दक्षिणकर ने कहा कि लघु धान्य या मिलिट्स अब केवल गरीब का आहार नही रहा। यह पोषक अनाज बन गया है। आज के आधुनिक दौर में लोग पोषक तत्व की कमी से कई बीमारियों जैसे डायबेटिज, हृदय रोग इत्यादि से ग्रसित हो रहे है। जो कि हमारे खान-पान में बदलाव के कारण उत्पन्न हो रही है। देश में 80 के दशक पश्चात् गेंहू-चॉवल का उपभोग काफी बढ़ा है जिनमें पोषक तत्वों की मात्रा मिलिट्स की तुलना में काफी कम है। मिलेट्स जैसे कोदो, कुटकी, रागी में काफी पोषक तत्व है। इनमें रेशा, खनीज तत्व, जैसे कैल्शियम, आयरन आदि काफी प्रचुर मात्रा में एवं ग्लायसेमिक इंडेक्स कम होने के कारण ये मानव स्वास्थ्य के लिये काफी लाभप्रद है। अतः हमें भोजन में इन अनाजो को अधिक से अधिक सम्मलित करना चाहिए। हमारे प्रदेश में छत्तीसगढ़ मिलेट मिशन अंतर्गत लघु धान्य अनाजों को बढ़ावा दिया जा रहा है।
No description available.
इस अवसर पर कार्यक्रम के अध्यक्ष डॉ. सुधीर उपरीत ने कहा कि मिलिट्स में बहुत पोषक तत्व है तथा उसका पाचन भी आसानी से होता हैं। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि श्रीमती खिलेश्वरी निषाद ने महिला समूहो से अपनी आंगनबाड़ी एवं स्कूल के आसपास फलदार वृक्ष तथा सब्जी लगाने साथ ही वृक्षारोपण कर पर्यावरण को बचाने पर बल दिया।

इस अवसर पर कुलपति ने कृषि विज्ञान केन्द्र, अंजोरा से जुड़ी महिला उद्यमी एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को इफको द्वारा प्रायोजित बीज एवं पौधा वितरण किया गया। साथ ही लघु धान्य अनाज से बने विभिन्न प्रकार के व्यंजन भी परोसे गये। साथ ही कृषि विज्ञान केन्द्र, प्रक्षेत्र में पौधा रोपण किया गया।  
कार्यक्रम में डॉ. एस.के. तिवारी, अधिष्ठाता, पशुचिकित्सा एवं पशुपालन महाविद्यालय, दुर्ग, डॉ. एस.पी.इंगोले, निदेशक शिक्षण, डॉ. एस.डी. हिरपुरकर, निदेशक पॉलीटेकनिक, श्रीमती शशी रैदास, आंगनबाड़ी पर्यवेक्षक एवं कृषि विज्ञान केन्द्र के डॉ. विकास खुणे, डॉ. निशा शर्मा, डॉ. एस.के. थापक, श्रीमती सोनिया खलखो साथ ही आसपास के विभिन्न ग्रामों से 115 महिलाएं, बालिकायें, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, रावे की छात्र-छात्राएं उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन वैज्ञानिक डॉ. निशा शर्मा एवं आभार प्रदर्शन डॉ. विकास खुणे ने किया।
 

Related Post

Leave A Comment

छत्तीसगढ़