ब्रेकिंग न्यूज़

कलेक्टर की उपस्थिति में एनीमिया मुक्त्त जशपुर अभियान के तहत रतिया में रात्रि चौपाल हुआ आयोजन

द न्यूज़ इंडिया समाचार सेवा

लोगों में जागरूकता लाना एवं उनका व्यवहार परिवर्तन करना ही इस अभियान मुख्य उद्देश्य - कलेक्टर

कलेक्टर ने रतिया गांव को एनीमिया मुक्त बनाने हेतु ग्राम वासियों को अपने भोजन में पौष्टिक आहार का सेवन करने की दिलाई शपथ

जशपुर : एनीमिया मुक्त जशपुर अभियान के तहत कलेक्टर श्री रितेश कुमार अग्रवाल की उपस्थिति में विगत दिवस जशपुर जनपद के ग्राम रतिया में रात्रि चौपाल का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री जितेंद्र यादव, जिला सलाहकार यूनिसेफ, जय हो वॉलिंटियर, स्वास्थ्य विभाग सहित अन्य अधिकारी कर्मचारी एवं बड़ी संख्या में ग्रामीण महिलाएं व युवतियां उपस्थित थे। रात्रि चौपाल में 168 महिलाओं और युवतियों का एनीमिया जांच किया गया। साथ ही उन्हें आयरन टेबलेट का वितरण भी प्राथमिकता से किया गया।

कलेक्टर श्री अग्रवाल ने कहा कि जिले को एनीमिया मुक्त बनाने हेतु मिशन मोड में कार्य करने की आवश्यकता है। लोगों में जागरूकता लाना एवं उनका व्यवहार परिवर्तन करना ही इस अभियान का उद्देश्य है। इस हेतु ग्रामीण स्तर से एनिमिक युवतियों, महिलाओं की पहचान कर उनका स्वास्थ्य जांच एवं उपचार प्राथमिकता से करना होगा। साथ ही उनकी नियमित रूप से निगरानी रखने की आवश्यकता है। कलेक्टर ने इस कार्य मे सभी को सहभागिता निभाने का आग्रह किया। श्री अग्रवाल ने एनीमिया मुक्ति  हेतु युवतियों को नीली आयरन गोली का 90 दिन तथा गर्भवती महिलाओं को लाल आयरन टेबलेट की 180 दिन तक नियमित रूप से सेवन करने की समझाईश दी। साथ ही विटामिन सी युक्त फलों का सेवन करने के लिए कहा।

इस दौरान कलेक्टर ने ग्राम रतिया के सभी निवासियों को गांव को एनीमिया मुक्त बनाने हेतु  को अपने भोजन में पौष्टिक आहार का सेवन करने की शपथ दिलाई। इस हेतु उन्होंने आसपास उपलब्ध औषधीय गुणों वाले स्थानीय भाजियों, हरी पत्तेदार सब्जियों व फलों का नियमित सेवन करने की सलाह दी। साथ ही  मुनगा सब्जी व भाजी को आहार में मुख्य रूप से शामिल करने के लिए कहा।

ज़िला पंचायत सीईओ श्री यादव ने कहा कि  सभी गांव वालों के सहयोग के साथ ही हम एनिमिया व कुपोषण से मुक्ति पा सकते है। कुपोषण से मुक्ति हेतु हमें अपने खान पान का विशेष ध्यान रखना आवश्यक है। खाने में पोषण आहार, तिरंगा भोजन को शामिल कर ही हम एनीमिया को हरा सकते है। उन्होंने कहा कि आयरन टेबलेट को दवा के रूप में नही पूरक आहार के रूप में लेना चाहिए। श्री यादव ने सभी गर्भवती महिलाओं व युवतियों को नियमित रूप से आयरन टेबलेट का सेवन करने की बात कही।

Related Post

Leave A Comment

छत्तीसगढ़

Facebook